Monday, November 18th, 2019

मुंबई में 2 हजार करोड़ में बिका प्लॉट

मुंबई
जापान के सुमितोमो ग्रुप ने बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में तीन एकड़ के प्‍लॉट की 2,238 करोड़ रुपये की बोली लगाकर मुंबई के सुस्‍त पड़े प्रॉपर्टी मार्केट को हिलाकर रख दिया है। इस हिसाब से प्रति एकड़ जमीन की कीमत लगभग 745 करोड़ रुपये हुई। रियल एस्टेट के जानकारों के हिसाब से यह प्रति एकड़ के हिसाब से देश की सबसे महंगी लैंड डील है।


मुंबई मेट्रोपॉलिटिन रीजन डिवेलपमेंट अथॉरिटी (एमएमआरडीए) के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने हमारे सहयोगी टाइम्‍स ऑफ इंडिया को बताया कि केवल सुमितोमो ने ही बोली लगाई थी। दो और प्‍लॉटों के साथ यह प्‍लॉट कई महीने पहले से बिक्री के लिए मार्केट में था लेकिन अब तक इसका कोई खरीदार नहीं आया था। प्रॉपर्टी मार्केट में आई मंदी के चलते स्‍थानीय डिवेलपर्स पूंजी के संकट से गुजरे रहे हैं, इसलिए ऐसा हुआ।

सुमितोमो यहां अपना ऑफिस बनाएगा
प्रॉपर्टी मार्केट पर नजर रखने वाले एक जानकार का कहना है, 'यह सही है कि सुमितोमो ग्रुप ने बहुत ज्‍यादा कीमत लगाई है लेकिन इससे यह भी साफ हो जाता है कि वह बांद्रा-कुर्ला कॉम्‍प्‍लेक्‍स जैसी प्राइम कमर्शल जगह पर वह अपनी मौजूदगी चाहता है।' इस प्‍लॉट का रिजर्व प्राइस 3.44 लाख रुपये प्रति वर्ग मीटर तय किया गया था। 2010 में लोढ़ा ग्रुप ने एमएमआरडीए के वडाला स्थित 6.2 एकड़ प्‍लॉट के 4,050 करोड़ रुपये की सबसे बड़ी बोली लगाई थी। यह प्रति एकड़ 653 करोड़ रुपये पड़ी। हालांकि, यह राशि अगले पांच वर्षों में किस्‍तों में अदा की गई थी।

एमएमआरडीए के एक अधिकारी का कहना था कि सुमितोमो प्‍लॉट पर फ्लोर स्‍पेस इंडेक्‍स (एफएसआई) 4 के उपयोग का हकदार है। इस हिसाब से यहां 10 लाख वर्ग फुट का निर्मित क्षेत्र हो सकता है।

सुमितोमो की योजना यहां कमर्शल ऑफिस कॉम्‍प्‍लेक्‍स बनाने की है, यहां पर उसकी भारतीय इकाइयों को भी जगह मिल सकती है। यह डील संभवत: सुमितोमो की रियल एस्टेट कंपनी के जरिए की जाएगी। सुमितोमो की रियल एस्टेट कंपनी भारत के तेजी से बढ़ते किराए पर ऑफिस दिए जाने वाले सेक्‍टर में अपनी किस्‍मत आजमाना चाहती है। ब्‍लैकस्‍टोन, ब्रुकफील्‍ड, सिंगापुर की जीआईसी और कतर इनवेस्‍टमेंट अथॉरिटी जैसे ग्‍लोबल इनवेस्‍टर इस सेक्‍टर में काफी निवेश कर चुके हैं।

भारत और जापान के बिजनस संबंध होंगे मजबूत
भारत के पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे की अगुआई में दोनों देशों के बीच बिजनस संबंधों की मजबूती भी इस डील का एक पहलू है। जापान के बिजनस ग्रुप में सबसे पुराने होने की वजह से सुमितोमो इन संबंधों को और मजबूत बनाने में अहम साबित हो सकता है।

भारत के बिजनस क्षेत्र में सुमितोमो की पहले से ही काफी मौजूदगी है। इनमें सुमितोमो मितसुई फाइनैंशल ग्रुप, एनईसी कॉर्पोरेशन और निप्‍पन स्‍टील (जिसने आर्सेलर मित्‍तल के साथ मिलकर एस्‍सार स्‍टील की बोली लगाई थी) प्रमुख हैं। माज्‍दा मोटर्स भी सुमितोमो का एक ग्‍लोबल ब्रैंड है।

मुंबई के सुस्‍त प्रॉपर्टी सेक्‍टर में आएगी तेजी
उम्मीद है कि इस डील से मुंबई के कई बरसों से सुस्‍त पड़े रियल एस्टेट मार्केट में तेजी आएगी। बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में 300 से ज्‍यादा इमारतें हैं। ये 1980 के दशक के मध्‍य से कई चरणों में बनी हैं। असल में 1977 में राज्‍य सरकार ने सोचाा था कि बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स को एक कमर्शल हब के तौर पर विकसित किया जाए ताकि मुंबई की भीड़-भाड़ को कम किया जा सके।

इसके बाद तत्‍कालीन बॉम्‍बे मेट्रोपॉलिटिन रीजन ऐंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी को इसे बसाने का जिम्‍मा सौंपा गया। काम तो इसमें 1982-83 में शुरू हो गया था लेकिन इसने तेजी 1990 के दशक में पकड़ी। यहां ऑफिस टावर्स के अलावा रिहायशी इलाके भी हैं।

Source : Agency

आपकी राय

10 + 1 =

पाठको की राय