Sunday, December 8th, 2019

 सोनिया गांधी मजबूत करेंगी विपक्षी एकता

 नई दिल्ली
अंतरिम अध्यक्ष के रूप में कांग्रेस की कमान संभालने के बाद सोनिया गांधी के समक्ष पहली चुनौती पार्टी को अपने सबसे मुश्किल दौर से उबारने की है। सहयोगी दलों के मुताबिक उनके नेतृत्व से कांग्रेस के साथ-साथ विपक्षी एकता को भी मजबूती मिलेगी।

माना जा रहा है कि राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद यूपीए में भी तालमेल में कमी दिख रही थी। संसद सत्र के दौरान इसका असर साफ दिखा था। एनसीपी नेता डीपी त्रिपाठी कहते भी हैं, कांग्रेस ने अच्छा निर्णय किया है।

सोनिया के नेतृत्व में धर्मनिरपेक्ष ताकतें एकजुट होंगी। सोनिया को समान विचारधारा वाले दलों के साथ तालमेल में महारत हासिल है।

Source : Agency

आपकी राय

8 + 14 =

पाठको की राय