Saturday, November 16th, 2019

5 मंजिला होटल जलकर खाक, आग बुझाने में लगी 50 दमकल, करोड़ों का नुकसान

इंदौर

इंदौर शहर में के विजय नगर क्षेत्र में स्थित पांच मंजिला गोल्डन गेट होटल में लगी आग पर काबू पा लिया गया है। करीब चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद पचास फायर ब्रिगेड की सहायता से आग पर काबू पाया गया।  आग में फंसे छह लोगों को भी रेस्क्यू कर बाहर सुरक्षित निकाल लिया गया है, उनमें से एक की हालत नाजुक बनी हुई है। इस हादसे में होटल पूरी तरह से जलकर खाक हो गया है। इसमें करोड़ों का नुकसान की खबर सामने आ रही है।

दरअसल, आज सोमवार सुबह शहर के विजय नगर क्षेत्र में स्थित पांच मंजिला गोल्डन गेट होटल में अचानक आग गई । आग की खबर लगते ही होटल मे अफरा-तफरी मच गई। आनन-फानन में कई लोगों को बाहर निकाला गया है वही पुलिस और फायर ब्रिगेड को सूचना दी गई। मौके पर पहुंची चार दमकलों ने लगातार आग को बुझाने का प्रयास किया लेकिन नाकामयाब रही। इसके बाद और दमकल को बुलाया गया और आग पर काबू पाने की कोशिश की गई।करीब चार घंटे बाद आग पर काबू पाया जा सका, लेकिन इसमें दमकल की 50 गाड़ियां और केमिकल का छिड़काव लगा। आग में फंसे छह लोगों को रेस्क्यू किया गया उनमें से एक की हालत नाजुक बनी हुई है।

धुएं से सांस लेने में हुई तकलीफ, खाली करवाए गए आसपास के इलाके

फिलहाल स्पष्ट नही हो पाया है कि आग कैसे लगी।लेकिन कहा जा रहा है कि शार्ट सर्किट के चलते होटल में आग लग गई और पूरा फर्नीचर लकड़ी का होने के चलते आग ने विकराल रुप ले लिया ।वही होटल के एक हिस्से में बार भी था, ऐसी आशंका है कि वहां बड़ी मात्रा में शराब रखी हुई थी, इसलिए आग और विकराल हो गई। पूरे इलाके में आग के धुएं की वजह से आस पास के लोगों को सांस लेने में तकलीफ होने लगी थी ,इसलिए पूरे इलाके को खाली कराया गय। आग सामने से लगी है इसके चलते पीछे से होटल से सटी इमारतों से लोगों को बाहर निकाला गया।


करोड़ों के नुकसान का अनुमान

बताया जा रहा है कि यह होटल पुलिस विभाग में पदस्थ इंस्पेक्टर के भाई का है।अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र सिंह चौहान के मुताबिक़ आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है। वही नुकसान का भी अनुमान लगाया जा रहा है।आग से करोड़ों रुपए के नुकसान का अनुमान है।

होटल में 7 से 8 गेस्ट रुके थे

इसके बाद होटल मैनेजर से होटल में रुके लोगों के बारे में जानकारी निकाली तो उसने आशंका जताई कि दो रूम में दो लोग सुबह पांच बजे रहने आए हैं। इस पर आगे से जाने की जगह नहीं होने पर सीढ़ियों की मदद से ऊपर चढ़े और कांच तोड़कर भीतर दाखिल हुए। धुआं ज्यादा होने से रेस्क्यू में परेशानी आ रही थी। इस कारण होटल के भीतर एक सीढ़ी लगाई गई और एक लंबा चादरनुमा कपड़ा फेंका गया। जिसे पकड़कर लोगों को बाहर निकाला गया। बाहर निकालकर उन्हें तत्काल पास के अस्पताल में चेकअप के लिए भेजा गया। काजी के अनुसार हाेटल में फंसे छह लोगों को हमने रेस्क्यू कर बाहर निकाला।

बुफे में लगी आग से पूरा होटल चपेट में आया  

होटलकर्मी जमनालाल ने बताया कि सुबह करीब 8 बजे सूचना मिली थी कि होटल में आग लग गई है। क्योंकि मेरी ड्यूटी सुबह 11 बजे से  है, इसलिए मैं घर पर ही था। तत्काल होटल पहुंचा और मैंने सबसे पहले बिजली सप्लाय बंद की, गैस लाइन बंद करवाई। इसके बाद फायर सिलेंडर लेकर पहुंचा, लेकिन आग फैल चुकी थी। आग सबसे पहले सुबह बुफे में लगी थी, जहां नाश्ते की तैयारी चल रही थी। होटल में चार रूम में गेस्ट रुके हुए थे। इनमें 7 से 8 गेस्ट ठहरे हुए थे।

आशंका जताई जा रही है कि आग शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी है। बताया जा रहा है कि होटल का ज्यादातर हिस्सा लकड़ी से बना हुआ था। इसकी वजह से यह बहुत तेजी से फैल गई। कुछ ही देर में पूरी इमारत में यह फैल गई। आग पर काबू पाने के लिए फायर ब्रिगेड की टीम लगातार लगी रही। नगर निगम के पानी के टैंकर भी मौके पर पहुंचते रहे और फायर ब्रिगेड की मदद करते रहे। घटना के बाद वहां आस-पास भीड़ जमा हो गई थी। उधर बिल्डिंग के पिछले हिस्से को फायर ब्रिगेड और नगर निगम की टीम ने तोड़ा और अंदर के हिस्से में पहुंची। आग की वजह से पूरे क्षेत्र में धुंआ फैल गया था। आग को पूरी तरह से बुझाने में करीब एक घंटे का समय और लग सकता है।

Source : Agency

आपकी राय

11 + 13 =

पाठको की राय