Wednesday, August 5th, 2020
Close X

जामिया में हिंसक हुए प्रदर्शनकारी, बसों में लगाई आग, दमकलकर्मियों पर भी हमला

नई दिल्ली
नागरिकता संशोधन कानून पर देश की राजधानी दिल्ली के जामिया इलाके में प्रदर्शन रुकने का नाम नहीं ले रहा है. रविवार शाम जामिया में प्रदर्शन काफी उग्र हो गया. प्रदर्शनकारियों ने कई बसों में आग लगा दी है. आग बुझाने के लिए दमकल की 4 गाड़ियां मौके पर पहुंची थीं. बसों में लगी आग बुझाने के दौरान ही प्रदर्शनकारियों ने गाड़ियों पर हमला कर दिया, जिसमें एक फायरमैन को काफी चोटें आई हैं.

तोड़ फोड़, नोएडा से न्यूफ्रैंड्स कॉलोनी की तरफ आ रही बसों में की गई है. कुछ सरकारी बसों में यात्री बैठे हुए थे तभी अचानक भीड़ ने लाठी-डंडों और पत्थरों से बस पर हमला कर दिया. कई बसों में आग लगा दी. जिसके बाद बाहर खड़े राहगीर भी मौके से भागते नजर आए.

प्रदर्शन कुल मिलाकर दिल्ली के ओखला, जामिया और कालिंदी कुंज वाले इलाके में हो रहा है. इससे पहले जामिया के छात्रों ने जामिया मिलिया इस्लामिया के बाहर हिंसा को अंजाम दिया था. हालांकि रविवार को जामिया प्रशासन ने बयान जारी करते हुए स्पष्ट कर दिया है आज हो रहे प्रदर्शन में उनके विश्वविद्यालय के छात्र शामिल नहीं है.      

आम लोगों को ट्रैफिक जाम से बचाने के लिए पुलिस ने ट्विटर पर निर्देश जारी किया है. ट्रैफिक पुलिस ने कहा है कि ओखला अंडरपास से सरिता विहार इलाके में प्रदर्शन की वजह से ट्रैफिक बाधित हुआ है. ट्रैफिक पुलिस ने कहा कि इस रोड से जाने से यात्री बचें. न्यू फ्रैंड्स कॉलोनी के अपोजिट मथुरा रोड को भी प्रदर्शनकारियों ने जाम कर दिया है.

उन्होंने लिखा है- जो भी बदरपुर से आ रहे हों वो कृपया कर सीआरआरआई की तरफ से मोदी फ्लाईओवर का रास्ता लें जो नेहरु प्लेस की तरफ जाता है. जो आश्रम चौक से आ रहे हैं वो रिंग रोड, मूलचंद फ्लाईओवर, बीआरटी कॉरिडोर या डीएनडी फ्लाईओवर के रास्ते से निकलें.

गौरतलब है कि जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय ने अपने परिसर में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) 2019 के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शन की वजह से स्नातक और स्नातकोत्तर की सेमेस्टर परीक्षाओं को रद्द करने के बाद अब शनिवार से शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया है.

kalindi_121519051719.jpegआम दिनों में कालिंदी कुंज पर भीड़ रहती है, अभी सन्नाटा पसरा है. प्रदर्शन की वजह से इस रूट पर जाने से ट्रैफिक पुलिस ने मना किया है.

विश्वविद्यालय अब 6 जनवरी 2020 को खुलेगा. विश्वविद्यालय के जन संपर्क अधिकारी अजीम अहमद ने कहा कि सभी सेमेस्टर परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है. आने वाले समय में नए तिथियों की घोषणा की जाएगी और 16 दिसंबर 2019 से 5 जनवरी 2020 तक शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया गया है. विश्वविद्यालय अब 6 जनवरी 2020 को खुलेगा.

इससे पहले विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक कार्यालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया, "यूजी व पीजी कोर्स के सभी विषम सेमेस्टर के छात्रों को सूचित किया जाता है कि 14 दिसंबर को होने वाली परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. स्थगित किए गए पेपरों की अगली तिथि बाद में अधिसूचित कर दी जाएगी.

शुक्रवार को, ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (एआईएसए) द्वारा शुक्रवार को संसद तक मार्च निकालने की कोशिश की गई, जिस वजह से पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए लाठीचार्ज भी किया, जिसके बाद प्रदर्शन हिंसक हो गया. कई मीडियाकर्मी भी छात्र-पुलिसकर्मी की झड़प में घायल हो गए. विरोध प्रदर्शन के बाद सोशल मीडिया पर कई संदेश प्रसारित किए गए, जिसमें छात्रों से चल रही परीक्षाओं सहित सभी शैक्षणिक गतिविधियों का बहिष्कार करने के लिए कहा गया.

पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किए जाने के बाद कई छात्र घायल हो गए, जिसके बाद उन्हें होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया. स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए लगभग 50 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया और जैतपुर व बदरपुर पुलिस थानों में ले जाया गया.

Source : Agency

आपकी राय

3 + 2 =

पाठको की राय