Thursday, January 23rd, 2020

ईडी ने चंदा कोचर के खिलाफ की बड़ी कार्रवाई

मुंबई
ICICI बैंक की पूर्व सीईओ और एमडी चंदा कोचर और उनके परिवार पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बड़ी कार्रवाई की है। ईडी ने चंदा कोचर के मुंबई स्थित फ्लैट और उनके पति की कंपनी की कुछ संपत्तियों को अटैच किया है। जब्त संपत्तियों का कुल मूल्य 78 करोड़ रुपये बताया जा रहा है। चंदा कोचर के खिलाफ यह कार्रवाई 2012 में आईसीआईसीआई बैंक से मिले 3,250 करोड़ रुपये के लोन मामले के सिलसिले में हो रही है।

बैंक की कर्जदार कंपनी विडियोकॉन इंडस्ट्रीज द्वारा कोचर के पति की कंपनी में निवेश को लेकर गड़बड़ी के आरोपों के बाद चंदा कोचर ने अक्टूबर 2018 में इस्तीफा दे दिया था। हाल ही में उन्होंने अपने खिलाफ बैंक से जारी बर्खास्तगी लेटर को बंबई हाई कोर्ट में चुनौती दी है। उन्होंने कोर्ट से उस लेटर को वैध घोषित करने की मांग की है, जिसमें उन्होंने अक्टूबर 2018 में जल्दी रिटायरमेंट की घोषणा की थी और बैंक ने स्वीकार कर लिया था। इस साल फरवरी में कोचर को बैंक से लेटर मिला जिसमें कहा गया था कि उनके खिलाफ जारी जांच को देखते हुए उन्हें (चंदा कोचर) को बर्खास्त किया गया है। बैंक ने उन्हें 2008 से मिलने वाले सभी लाभों को भी निरस्त कर दिया। यह रकम काफी बड़ी आंकी जा रही है।

क्या है मामला?
विडियोकॉन ग्रुप को 2012 में आईसीआईसीआई बैंक से 3,250 करोड़ रुपये के लोन का मामला है। यह लोन कुल 40 हजार करोड़ रुपये का एक हिस्सा था जिसे विडियोकॉन ग्रुप ने एसबीआई के नेतृत्व में 20 बैंकों से लिया था। विडियोकॉन ग्रुप के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत पर आरोप है कि उन्होंने 2010 में 64 करोड़ रुपये न्यूपावर रीन्यूएबल्स प्राइवेट लिमिटेड (NRPL) को दिए थे। इस कंपनी को धूत ने दीपक कोचर और दो अन्य रिश्तेदारों के साथ मिलकर खड़ा किया था।

ऐसे आरोप हैं कि चंदा कोचर के पति दीपक कोचर समेत उनके परिवार के सदस्यों को कर्ज पाने वालों की तरफ से वित्तीय फायदे पहुंचाए गए। आरोप है कि आईसीआईसीआई बैंक से लोन मिलने के 6 महीने बाद धूत ने कंपनी का स्वामित्व दीपक कोचर के एक ट्रस्ट को 9 लाख रुपये में ट्रांसफर कर दिया।

Source : Agency

आपकी राय

10 + 8 =

पाठको की राय