Monday, April 6th, 2020

आखिर क्यों है कब्ज के लिए रामबाण इलाज इसबगोल

इसबगोल की भूसी- नाम तो सुना होगा। घर के बुजुर्गों को जब कब्ज की दिक्कत हो जाती है या पेट में किसी तरह की समस्या होती है तो आपने अक्सर उन्हें सफेद रंग की इसबगोल खाते देखा होगा। सदियों से आयुर्वेदिक दवाएं बनाने में भी इसबगोल का इस्तेमाल हो रहा है। भरपूर मात्रा में फाइबर होने के कारण इसबगोल को कब्ज से राहत दिलाने के लिए जाना जाता है। लेकिन इसबगोल के कई और फायदे भी हैं जिन्हें जाकर आप भी इसे जरूर खाना चाहेंगे।

कई फायदों वाला है इसबगोल
दरअसल, इसबगोल जिसे अंग्रेजी में साइलियम हस्क कहते हैं, प्लांटैगो ओवेटो के पौधे से मिलने वाला बीज और भूसी है। इसबगोल बीज के आसपास की भूसी में घुलनशील फाइबर होता है। इसलिए जब आप इस तरह के फाइबर को पानी में मिलाते हैं, तो यह जेल बनाने के लिए पानी को अवशोषित करता है। इसके अलावा, इसबगोल का इस्तेमाल खाने में भी किया जाता है। साथ ही साथ यह वजन घटाने में भी मदद करता है।

कब्ज में राहत
इसबगोल में हाइग्रोस्कोपिक गुण होते हैं, जो डाइजेस्टिव सिस्टम से ज्यादा पानी सोखने में मदद करते हैं। इसबगोल में मौजूद फाइबर कब्ज ठीक करने का अच्छा उपाय है। दूध के साथ 2 चम्मच इसबगोल मिलाकर पी सकते हैं।

​दस्त रोकने में मददगार
इसबगोल, आंतों को साफ करता है जो संक्रमण के कारण सूक्ष्म जीवों को हटाने में मदद करता है। दस्त के दौरान आप इसबगोल को दही में मिलाकर खा सकते हैं। दही और इसबगोल दोनों ही दस्त को रोकने में प्रभावी हैं।

ब्लड शुगर कम करे
इसबगोल ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में मदद करता है, क्योंकि यह ग्लूकोज के टूटने के अवशोषण को रोकता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद जिलेटिन आपके ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है।

कलेस्ट्रॉल कम करे
इसबगोल पित्त ऐसिड को बांधता है और एलडीएल यानी बैड कलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। यह एचडीएल यानी गुड कलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ाने में भी मददगार है।

​दिल रखे स्वस्थ
इसबगोल दिल को स्वस्थ रखने में भी मदद करता है क्योंकि यह शरीर में ट्राइग्लिसराइड के लेवल को कम करता है। यह दिल की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है, लिपिड के स्तर को बढ़ाता है और ब्लड प्रेशर कंट्रोल करता है।

वेट लॉस में मददगार
इसबगोल वजन घटाने में भी फायदेमंद है। इसको 1 गिलास पानी में या फिर जूस में डालकर पिएं। इसबगोल को पानी और नींबू के रस के साथ मिलाकर भी पी सकते हैं।

ओवरइटिंग रोकने में मददगार है
आयुर्वेदाचार्य डॉ ए के मिश्र कहते हैं, इसबगोल ओवरइटिंग रोकने में मददगार है। हालांकि इसको सीमित मात्रा में लेना चाहिए क्योंकि इसके ज्यादा सेवन से गैस, सूजन जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

नुकसान भी हैं
- इसबगोल लेते समय पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें वरना पेट में ऐंठन और उल्टी आने की दिक्कत हो सकती है।
- दिन में 30 ग्राम से ज्यादा इसबगोल का सेवन न करें।
- इसबगोल का ज्यादा सेवन करने से भारीपन महसूस होता है और कफ की भी दिक्कत हो सकती है।

Source : Agency

आपकी राय

9 + 9 =

पाठको की राय