Monday, April 6th, 2020

एशियाई चैंपियनशिप: जापानी पहलवान मुकेदा से हारीं विनेश, साक्षी गोल्ड मेडल से एक कदम दूर

नई दिल्ली 

विनेश फोगाट को फिर से जापानी पहलवान मायू मुकेदा से शिकस्त का सामना करना पड़ा जिससे वह गोल्ड मेडल की दौड़ से बाहर हो गईं जबकि साक्षी मलिक शुक्रवार को यहां एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में सेमीफाइनल जीतकर खिताब की दौड़ में बनी हुई हैं। विनेश को 2019 में मुकेदा से दो बार (विश्व चैंपियनशिप और एशियाई चैंपियनशिप में) हार का सामना करना पड़ा था। यहां भी यही सिलसिला जारी रहा और यह भारतीय फिर से जापानी खिलाड़ी के मजबूत डिफेंस को तोड़ने में जूझती रही। शुरुआती पीरियड में विनेश ने कई बार पैर से आक्रमण करने की कोशिश की, लेकिन हर बार मुकेदा ने उनके प्रयास विफल किए और घरेलू प्रबल दावेदार पहलवान पर दबदबा बनाकर जीत हासिल की। पिछली दो भिड़ंत में विनेश 2019 की विश्व सिल्वर मेडलिस्ट के खिलाफ एक भी अंक नहीं जुटा सकी थीं, हालांकि इस बार वह उन्हें गिराकर अंक हासिल करने में सफल रहीं लेकिन 2-6 से हार गईं। अब विनेश ब्रॉन्ज मेडल के लिए वियतनाम की थि ली कियू के सामने होंगी। हालांकि दर्शकों को उनसे काफी उम्मीदें लगी हुई थीं।

 

साक्षी की निगाहें गोल्ड पर 

रियो ओलिंपिक की ब्रॉन्ज मेडल विजेता साक्षी मलिक शुरुआती दौर में जापान की नाओमी रूइके से 1-2 से हार गई थीं लेकिन उन्होंने वापसी करते हुए दो कमजोर प्रतिद्वंद्वियों को पस्त किया और गैर ओलिंपिक 65 किग्रा वर्ग के फाइनल में पहुंचीं। उन्होंने कोरिया की ओहयंग हा पर तकनीकी दक्षता से जीत हासिल की। उज्बेकिस्तान की नाबीरा इसेनबाएवा के खिलाफ सेमीफाइनल में वह 5-0 से आगे चल रही थीं, लेकिन उनकी प्रतिद्वंद्वी ने लगातार दो अंक हासिल कर स्कोर 5-4 कर दिया। लेकिन वह इस मामूली बढ़त को अंत तक कायम रखकर जीत हासिल करने में कामयाब हुईं। 

 

सोनम मलिक और अंशु मलिक भी मेडल की दौड़ में 

भारत की युवा सोनम मलिक (62 किग्रा) और अंशु मलिक (57 किग्रा) भी मेडल की दौड़ में बनी हुई हैं। ट्रायल्स में साक्षी को हराने वाली सोनम ने कोरिया की हानबिट ली पर शानदार जीत से प्रभावित किया। उन्हें हालांकि विश्व ब्रॉन्ज मेडल विजेता युकाको कवई से 2-5 की हार मिली। अब वह ब्रॉन्ज मेडल के लिए ऐसुलू टाइनबेकोवा से भिड़ेंगी। अंशु मलिक ने अपना अभियान किर्गिस्तान की नरेडा अनारकुलोवा पर तकनीकी श्रेष्ठता से मिली जीत से शुरू किया। लेकिन उन्हें मौजूदा विश्व चैंपियन जापान की रिसकाओ कवई से हार मिली। अब उन्हें ब्रॉन्ज मेडल जीतने के लिए उज्बेकिस्तान की सेवारा एशमुरातोवा से भिड़ना होगा। गैर ओलिंपिक 72 किग्रा वर्ग में गुरशरनप्रीत कौर भी ब्रॉन्ज मेडल की दौड़ में बनी हुई हैं। उन्होंने उज्बेकिस्तान की स्वेतलाना ओकनाजारोवा को हराया लेकिन कजाखस्तान की जामिला बाकबरजेनोवा से पराजित हो गईं। उन्होंने फिर भी सेमीफाइनल में जगह बनाई जिसमें वह जापान की मेई शिंडो से हार गईं। अब वह मंगोलिया की सेवेगमेड एंखबायार के सामने होंगी।

Source : Agency

आपकी राय

3 + 7 =

पाठको की राय