Sunday, July 5th, 2020
Close X

इंदौर के हालात लगातार चिंताजनक बने हुए, देश के टॉप 13 शहरों में शामिल

इंदौर
इंदौर कोरोना  के मामले में देश के सबसे क्रिटिकल शहरों में शामिल हो चुका है.यहां अब भी हालात लगातार चिंताजनक बने हुए हैं. अब 126 लोगों की कोरोना के कारण मौत हो चुकी है और 3344 लोग इसकी चपेट में चुके हैं. गुरुवार को फिर यहां 84 नये मरीज़ (patients) मिले. कोरोना से अब तक 1673 मरीज स्‍वस्‍थ हो चुके हैं जबकि एक्टिव मरीजों की संख्‍या अब 1545 है.नये मरीज़ मिलने के बाद यहां 21 नये कंटेनमेंट एरिया घोषित किए गए हैं.

स्वास्थ्य विभाग के मेडिकल बुलेटिन में 4 नए मरीजों की मौत की पुष्टि के बाद इंदौर में कोरोना से मौत का आंकड़ा 126 पर पहुंच गया है. कोरोना के 84 नए पॉजिटिव मरीज सामने आने के बाद पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 3344 पर पहुंच गया है. पिछले 24 घंटे में 583 सैंपल कलेक्ट किए गए हैं. जबकि 1073 मरीजों के सैंपल की जांच की गई. जिसमें से 964 सैंपल निगेटिव और 84 सैंपल पॉजिटिव निकले.जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया के मुताबिक अभी तक 33477 मरीजों के सैंपल की जांच हो चुकी है.

21 नए कंटेनमेंट एरिया
इंदौर में कोविड-19 के नये पॉजिटिव मरीज़ मिलने के बाद 21 नये कंटेनमेंट एरिया घोषित किए गए हैं. इन कंटेनमेंट एरिया के लिए इंसीडेंट कमांडरों की नियुक्ति कर दी गई है.जिन क्षेत्रों को कंटनमेंट एरिया घोषित किया गया है उनमें बसंत विहार कॉलोनी, राम नग,राम बगीचा मंदिर,इतवारिया बाजार,कंडिलपुरा,राबर्ट नर्सिंग होम, रौनक विला, शेखर पार्क, कटकोदा, टीचर्स कॉलोनी, पंचशील नगर, लोहा मण्डी, मंगल मूर्ति कृष्णाजी नगर शामिल हैं. इसी तरह बडोदिया खान, मुखर्जी नगर, सुख संपदा कॉलोनी, अम्बेडकर नगर,जोसेफ कान्वेंट बिजलपुर, देवी इंदिरा नगर, सिंधु नगर,जानकी नगर एक्सटेंशन और टेस्टर्लिंग स्कायलाइन को भी कंटेनमेंट एरिया घोषित किया गया है.संक्रमण की रोकथाम के लिए कंटेनमेंट एरिया में किसी के भी आने या जाने पर पूरी तरह से प्रतिबंधित है.

100 कदमों के साथ बढ़ा खुशियों का कारवाँ

इंदौर में एक तरफ जहां संक्रमण बढ़ता जा रहा है वहीं दूसरी ओर मरीज भी तेजी से स्वस्थ होकर अपने घरों को लौट रहे हैं. कमिश्नर आकाश त्रिपाठी ने बताया कि इंदौर में मरीज़ों के स्वस्थ होने का सिलसिला तेज़ी से आगे बढ़ रहा है. गुरुवार को भी अरविंदो और अन्य हास्पिटल से सौ से ज्यादा मरीज़ स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किए गए.इनमें एक साल का बच्चा भी मां के साथ डिस्चार्ज हुआ.

 

Source : Agency

आपकी राय

11 + 9 =

पाठको की राय