Friday, July 10th, 2020
Close X

मनोज तिवारी, जाने-अनजाने गलती हुई हो तो क्षमा करना

नई दिल्ली
दिल्ली सांसद मनोज तिवारी को दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया गया है। उनके बाद अब आदेश गुप्ता को ये जिम्मेदारी सौंपी गई है। सांसद मनोज तिवारी ने इस फैसले के बाद बयान दिया है। उन्होंने नए प्रदेश अध्यक्ष को बधाई दी है साथ ही साथ दिल्ली वासियों से क्षमा भी मांगी है। दरअसल बीजेपी ने जिस मकसद से उन्हें अध्यक्ष बनाया था, वह पूरा होता नहीं दिखा। माना जाता है कि पूर्वांचली वोट को खींचने के लिए बीजेपी ने उन्हें यह जिम्मेदारी दी थी, फिर भी बीजेपी को दिल्ली में दो बार करारी हार का सामना करना पड़ा।


45 का दावा, मिलीं 8 सीटें
इस बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में मनोज तिवारी को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाने की भी बात सामने आई थी। हालांकि बीजेपी को उनके नेतृत्व में करारी हार का सामना करना पड़ा। तिवारी ने 45 सीटों का दावा किया था जबकि बीजेपी के हाथ केवल 8 सीटें लगीं। इसके बाद भी कयास लगाए जा रहे थे कि उनसे यह जिम्मेदारी ली जा सकती है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष @BJP4Delhi के रूप में इस 3.6 साल के कार्यकाल में जो प्यार और सहयोग मिला उसके लिये सभी कार्यकर्ता,पदाधिकारी,व दिल्ली वासियों का सदैव आभारी रहूँगा.. जाने अनजाने कोई त्रुटि हुई हो तो क्षमा करना..
नये प्रदेश अध्यक्ष भाई @adeshguptabjp जी को असंख्य बधाइयाँ

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

असहज करने वाले बयान
मनोज तिवारी के कई बयानों के वजह से बीजेपी को असहज महसूस करना पड़ा। एक रैली में उन्होंने सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा था कि उन्होंने कभी छठ पूजा नहीं की। छठ पूजा करने से बुद्धिमान बेटा होता है। जाहिर सी बात है कि मनोज तिवारी के इलाके में तो छठ पूजा होती है लेकिन बीजेपी के अन्य वरिष्ठ नेताओं के राज्य में इस पूजा का उतना प्रचलन नहीं है। इसके बाद सोशल मीडिया पर उन्हें काफी ट्रोल किया गया।

अध्यक्ष नियुक्त
मनोज तिवारी को हटाकर बीजेपी ने जिसे दिल्ली का प्रदेश अध्यक्ष बनाया है उनका नाम आदेश गुप्ता है। आदेश गुप्ता एक साल पहले तक नॉर्थ एमसीडी के मेयर रह चुके हैं। माना जा रहा है कि बीजेपी ने यह चेहरा व्यापारी वर्ग को खुश करने के लिए आगे किया है। मनोज तिवारी को हटाकर बीजेपी ने जमीनी और दिल्ली से जुड़े नेता को अध्यक्ष बनाया है, जिसकी मांग काफी वक्त से चल रही थी। आदेश गुप्ता एक वक्त में ट्यूशन पढ़ाकर अपना घर चलाते थे।

Source : Agency

आपकी राय

6 + 3 =

पाठको की राय