Monday, September 28th, 2020
Close X

BMC ने बिहार के IPS को क्वारंटाइन में पूछताछ जारी रखने के लिए रखी थी शर्त

पटना
सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी सुलझाने मुंबई गयी पटना पुलिस की एसआईटी गुरुवार की दोपहर वापस लौट आई। स्पाइस जेट विमान से साढ़े बारह बजे एसआईटी में शामिल चार पुलिसकर्मी पटना के जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरे। बताया जा रहा है इससे पहले बीएमसी ने सुशांत मामले में जांच के लिए आई बिहार पुलिस की टीम को डिजिटल तरीकों से बातचीत करने का सुझाव दिया था।बिहार पुलिस ने तीन अगस्त को पत्र लिखकर बीएमसी द्वारा 14 दिन के लिए पृथक-वास में भेजे गए पटना के पुलिस अधीक्षक विनय तिवारी के लिए छूट देने की मांग की थी। बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने मंगलवार को एक पत्र में बिहार पुलिस से कहा कि शहर में पूछताछ के लिए जूम, गूगल मीट, जियो मीट, माइक्रोसॉफ्ट टीम्स या अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल किया जाए। बीएमसी के अतिरिक्त निगम आयुक्त पी वेलरासू के हस्ताक्षर वाले पत्र में कहा गया, डिजिटल प्लेटफॉर्म के इस्तेमाल से तिवारी उन अधिकारियों में संक्रमण नहीं फैला सकेंगे, जिनसे वह मिल रहे हैं, क्योंकि बिहार में कोरोना महामारी तेजी से फैल रही है। साथ ही वह खुद भी मुंबई में महाराष्ट्र सरकार के अनेक अधिकारियों से मुलाकात के दौरान संक्रमित नहीं होंगे। बीएमसी ने कहा कि तिवारी को महाराष्ट्र सरकार के सभी नियम और शर्तों का पालन करना चाहिए।

आईजी से की मुलाकात :

सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी सुलझाने मुंबई गई पटना पुलिस की एसआईटी बिहार लौटन के बाद रेंज आईजी संजय सिंह के दफ्तर पहुंचे। वहां करीब दो घंटे तक तफ्तीश के मुद्दे पर मंथन चला।  आईजी और एसएसपी से साथ समीक्षा बैठक में टीम से मुंबई पुलिस के खराब रवैये के बारे में भी जानकारी ली गई। इस मामले की जांच करने गए एसपी सिटी विनय तिवारी अब तक मुंबई में ही क्वारंटाइन हैं। बीएमसी ने भी बिहार पुलिस को पत्र लिखकर यह स्पष्ट कर दिया है कि नियम कानून के तहत ही उन्हें क्वारंटाइन मुक्त किया जाएगा। लिहाजा रेंज आईजी ने एसपी को मुंबई से लाने को लेकर भी चर्चा की। सूत्रों की मानें तो इस बाबत जल्द ही पुलिस के बड़े अधिकारी बैठककर ठोस निर्णय लेंगे। 

हम पेशेवर तरीके से ही अपना काम कर रहे : महाराष्ट्र 
वही दूसरी ओर कल महाराष्ट्र सरकार ने सुपीम कोर्ट से कहा था, हम पेशेवर तरीके से ही अपना काम कर रहे हैं और मुंबई पुलिस को इस तरह से लांछित करना अनुचित है। रिया चक्रवर्ती की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान ने कहा कि इस मामले के लंबित होने के दौरान उसके खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए। पीठ ने टिप्पणी की, हम चाहते हैं कि सभी पक्ष संयम बरतें। वकील यहां पर हैं और निश्चित ही सबने आपको सुना है। 

पुलिस अधिकारी को क्वारंटाइन करना, ठीक नहीं : अदालत 
महाराष्ट्र की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता आर बसंत ने कहा कि इस मामले मे प्राथमिकी दर्ज करने या फिर जांच करने का पटना पुलिस को कोई अधिकार नहीं है और अब इसे एक राजनीतिक मामला बना दिया गया है। इस पर पीठ ने टिप्पणी की कि (बिहार के) पुलिस अधिकारी को क्वारंटाइन करने का अच्छा संदेश नहीं गया है, हालांकि मुंबई पुलिस की बेहतरीन छवि है। यह सुनिश्चित किया जाये कि सब कुछ कानून के अनुसार ही हो। 

Source : Agency

आपकी राय

4 + 14 =

पाठको की राय