Tuesday, September 29th, 2020
Close X

धीरे-धीरे लोगों के दिमाग से निकल रहा है कोरोना का डर, मेट्रो में बढ़ने लगे हैं पैसेंजर्स

कोरोना वायरस की रोकथाम के मद्देनजर डीएमआरसी ने एक और सुविधा प्रदान करनी शुरू कर दी है। अब दिल्ली मेट्रो के सभी स्टेशनों पर क्यूआर कोड से स्मार्ट कार्ड रीचार्ज की सुविधा उपलब्ध की है। पहले क्यूआर कोड स्कैन कर टोकन लेने की भी सुविधा थी, लेकिन कोरोना के कारण अभी यात्रियों को टोकन उपलब्ध नहीं कराए जा रहे हैं। मेट्रो ट्रेन व स्टेशनों पर साफ सफाई बढ़ा दी गई है। स्टेशनों पर प्रत्येक 4 घंटे पर ऑटोमेटिक फेयर कलेक्शन गेट, लिफ्ट, टोकन वेंडिंग मशीन इत्यादि की साफ सफाई की जा रही है। हर टर्मिनल स्टेशन पर पहुंचने के बाद मेट्रो के कोच को सैनिटाइज किया जा रहा है। मेट्रो के 12 डिपो हैं। उन सभी डिपो में ट्रेनों की साफ सफाई की जा रही है।

294 मेट्रो ट्रेनें रोजाना लगा रही हैं 4500 फेरे
मेट्रो की सभी लाइनों पर परिचालन सामान्य होने के बाद यात्रियों की संख्या बढ़ने लगी है। यात्रियों की सुविधा के लिए प्रतिदिन 294 मेट्रो ट्रेनें करीब 4500 फेरे लगा रही हैं। 7 सितंबर को मेट्रो शुरू होने के बाद से लगातार यात्री संख्या बढ़ रही है। बीते शनिवार को रात 11 बजे तक कुल एक लाख 80 हजार यात्रियों ने सफर किया। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) को उम्मीद है कि अगले कुछ दिनों में मेट्रो में सफर करने वाले यात्रियों की संख्या तीन लाख के करीब पहुंच जाएगी। दिल्ली मेट्रो का नेटवर्क 349 किलोमीटर लंबा है जिसमें 253 मेट्रो स्टेशन हैं, इनमें 28 इंटरचेंज स्टेशन भी शामिल हैं। मेट्रो के नेटवर्क में करीब 330 ट्रेनें हैं, जिसमें से 294 ट्रेनों का परिचालन हो रहा है। यात्रियों की सुविधा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

सामान्य दिनों में रोजाना 28 लाख यात्री करते थे सफर
कोरोना के संक्रमण की वजह से मेट्रो में यात्रियों की संख्या क्षमता से 80 प्रतिशत कम रखने का प्रबंध किया गया है। लॉकडाउन से पहले मेट्रो में सामान्य तौर पर प्रतिदिन करीब 28 लाख यात्री सफर करते थे। मौजूदा व्यवस्था के मुताबिक प्रतिदिन 5 लाख से 6 लाख यात्री सफर कर सकते हैं। हालांकि, फिलहाल इससे भी कम यात्री सफर कर रहे हैं। सोमवार को शाम 7.30 बजे तक दिल्ली मेट्रो में 2.50 लाख लोगों ने यात्रा की।

Source : Agency

आपकी राय

13 + 13 =

पाठको की राय