Saturday, January 18th, 2020

अपनी कक्षा में पहुंचा भारत का सबसे बड़ा उपग्रह जीसैट 11, बढ़ाएगा इंटरनेट की रफ्तारसाइंस

चेन्नई 
भारत का सबसे भारी व अगली पीढ़ी के संचार उपग्रह जीएसएटी-11 को बुधवार को फ्रांसीसी गुयाना के एरियानेस्पेस के एरियाने-5 रॉकेट द्वारा कक्षा में स्थापित कर दिया गया है। 5,854 किलोग्राम वजनी जीसैट-11 इसरो द्वारा बनाया गया सबसे भारी उपग्रह है। 

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा कि जीसैट-11 उन्नत संचार उपग्रह श्रंखला का अगली पीढ़ी का उपग्रह है, जिसमें मल्टी-स्पॉट बीम के एंटीना लगे हैं, जो भारतीय भूमि और द्वीपों को कवर कर सकते हैं। बुधवार को जारी बयान में इसरो के अध्यक्ष के. सिवन के हवाले से कहा गया है, 'जीएसएटी-11 भारत नेट प्रोजेक्ट के तहत आने वाले देश में ग्रामीण और अभी तक पहुंच से दूर ग्राम पंचायतों तक ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को बढ़ावा देगा, जो डिजिटल इंडिया प्रोग्राम का हिस्सा है।'

भारत नेट प्रोजेक्ट का लक्ष्य ई-बैंकिंग, ई-हेल्थ, ई-गवर्नेंस जैसे सार्वजनिक कल्याणकारी योजनाओं को बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि जीएसएटी-11 सभी भावी संचार उपग्रहों के अग्रदूत के रूप में काम करेगा। जीएसएटी -11 देश भर में ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। सिवन ने कहा, 'आज का सफल मिशन हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाएगा।'

Source : Agency

आपकी राय

14 + 7 =

पाठको की राय