Thursday, March 21st, 2019

चीन का नया रेडार, पूरे भारत पर लगातार रख सकेगा नजर

पेइचिंग 
चीन ने कॉम्पैक्ट साइज का एक ऐसा आधुनिक समुद्री रेडार विकसित कर लिया है जो पूरे भारत पर लगातार नजर रख सकता है। दरअसल, चीन के नए रेडार की क्षमता इतनी अधिक है कि वह किसी छोटे-मोटे हिस्से की नहीं बल्कि भारत के आकार के बराबर इलाके की लगातार निगरानी कर सकता है। बुधवार को मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया कि घरेलू स्तर पर विकसित किए गए इस रेडार सिस्टम के जरिए चीन की नौसेना देश के समुद्री इलाकों पर पूरी तरह से नजर रख सकेगी। इसके साथ ही यह सिस्टम मौजूदा टेक्नॉलजी की तुलना में दुश्मन के जहाजों, विमानों और मिसाइलों से आते खतरे को लेकर काफी पहले ही फौज को अलर्ट कर देगा।  

हॉन्ग कॉन्ग स्थित साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने चीन के इस ओवर-द-हॉरिजन (OTH) रेडार प्रोग्राम में शामिल वैज्ञानिकों के हवाले से यह जानकारी दी। पोस्ट के मुताबिक चाइनीज अकैडमी ऑफ साइंसेज (CAS) के शिक्षाविद लियू योंगतान को चीन के रेडार टेक्नॉलजी को अपग्रेड करने का श्रेय दिया जाता है। चाइनीज अकैडमी ऑफ इंजिनियरिंग का भी इसमें अहम योगदान है। 

इस आधुनिक कॉम्पैक्ट साइज के रेडार की सबसे बड़ी खासियत है कि PLA नेवी के विमानवाहक बेड़े में तैनाती के बाद यह किसी एक हिस्से की नहीं बल्कि भारत के आकार के इलाके पर लगातार निगरानी कर सकता है। चीन के लिए यह रेडार कितना महत्वपूर्ण है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि राष्ट्रपति ने इस रेडार को विकसित करने के लिए लियू योंगतान और एक अन्य मिलिट्री साइंटिस्ट कियान क्विहू को विज्ञान के क्षेत्र में दिए जाने वाले देश के सबसे बड़े पुरस्कार से सम्मानित किया। 

कियान को देश की मॉडर्न डिफेंस इंजिनियरिंग के लिए सैद्धांतिक प्रणाली तैयार करने के लिए सम्मान से नवाजा गया। उन्होंने अंडरग्राउंड न्यूक्लियर शेल्टर फसिलटीज तैयार करने में भी बड़ी भूमिका निभाई। 

कितना महत्वपूर्ण है यह सिस्टम? 
लियू ने बताया कि शिप-बेस्ड OTH रेडार ने पीपल्स लिबरेशन आर्मी को पहले की तुलना में ज्यादा बड़े क्षेत्र की निगरानी करने में सक्षम बना दिया है। उन्होंने कहा, ‘पारंपरिक तकनीकों की मदद से हमारे समुद्री क्षेत्र के करीब 20 प्रतिशत भाग की ही निगरानी हो पाती थी। नई प्रणाली पूरे क्षेत्र पर नजर रखेगी।’ लियू की टीम के एक वरिष्ठ मेंबर ने बताया कि समंदर में इस रेडार की बदौलत खासतौर से दक्षिण चीन सागर, हिंद महासागर और प्रशांत महासागर में चीनी नेवी की जानकारी इकट्ठा करने की क्षमताओं में इजाफा होगा। 

सैन्य साजोसामान पर चीन का फोकस 
एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने एक विशालकाय ऐंटेना भी बना लिया है। चीन की सेना का बजट बढ़कर अब सालाना 175 अरब डॉलर हो गया है और सेना अपने रक्षा उपकरणों पर फोकस कर रही है। चीन की नजर अमेरिका से मिलती चुनौतियों पर है। उसने दो विमानवाहक पोत बना लिए हैं और तीसरा पाइपलाइन में है। 

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

12 + 9 =

पाठको की राय