Friday, March 22nd, 2019

प्रजनेश गुणेश्वरन का कमाल, 5 साल में महज तीसरे भारतीय ने पाया यह हक

मेलबर्न 
भारतीय टेनिस खिलाड़ी प्रजनेश गुणेश्वरन ऑस्ट्रेलियाई ओपन के पुरुष सिंगल्स के मेन ड्रॉ में जगह बनाने में कामयाब रहे। चेन्नै के 29 साल के इस खिलाड़ी ने तीसरे और अंतिम क्वॉलिफाइंग मैच में जापान के योसुके वतानुकी से पहला सेट गंवाने के बाद वापसी करते हुए 6-7, 6-4, 6-4 से जीत दर्ज की।

यह कामयाबी है बड़ी 
प्रजनेश पिछले पांच साल में किसी ग्रैंड स्लैम के सिंगल्स मेन ड्रॉ में क्वॉलिफाई करने वाले सोमदेव देववर्मन और युकी भांबरी के बाद केवल तीसरे भारतीय खिलाड़ी हैं। युकी ने 2018 में घुटने की चोट से पूर्व चारों ग्रैंड स्लैम में हिस्सा लिया था, जबकि सोमदेव 2013 में अमेरिकी ओपन में आखिरी बार ग्रैंडस्लैम के मुख्य दौर में खेले थे। इस जीत के बाद प्रजनेश ने कहा, 'मेरे लिए यह काफी बड़ी कामयाबी है। पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम में खेलूंगा। मैंने हमेशा यह सपना देखा था। मैं काफी खुश हूं और इसे जाहिर करने के लिए शब्द नहीं हैं, लेकिन यह निश्चित तौर पर काफी बड़ी बात है।' क्वॉलिफाइंग राउंड में तीन मुकाबले जीतने के लिए प्रजनेश 40,000 ऑस्ट्रेलियाई डालर (लगभग 20 लाख रुपये) और ऑस्ट्रेलियाई ओपन के मुख्य वर्ग का पहले दौर का मुकाबला खेलने के लिए लगभग 38 लाख रुपये की पुरस्कार राशि के हकदार होंगे, जिससे 2019 के उनके सीजन का ज्यादातर खर्च निकल जाएगा। 

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

1 + 11 =

पाठको की राय