Friday, March 22nd, 2019

हाथी से लेकर कबूतर को मिली सजा, जानिए-इन जानवरों ने क्या किया अपराध

हमारे समाज में कोई मनुष्य जब गलत काम यानी अपराध करता है जिसे समाज में एक बुराई के रूप में देखा जाता है तो उनके लिए पुलिस है, न्यायलय है, जेल भी हैं। लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है की क्या कोई पशु या पक्षी कभी-कभी इंसानों जैसी गलती करता है तो फिर क्या हो। जी हां, जानवरों का भी कानून है जैसे मनुष्य के लिए बनाए है।

आपको बता दे, जानवरों को भी अभियुक्त बनाया गया है, उनको भी गिरफ्तार किया जा चुका है, और तो और कई जानवर तो जेल भी गए हैं तथा कईयों को मौत की सजा भी सुनाई गई है। जब कोई जानवर कोई अपराध करता है तो उनके साथ क्या हुआ, आइए जानते है।

जासूसी करने वाले बंदर को किया गिरफ्तार...
साल 2011 में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में भारत से सीमा पार कर आए एक बंदर को प्रशासन ने गिरफ्तार कर लिया। दरअसल, बहावलपुर में वन्यजीव अधिकारियों ने इस बंदर को पकड़ा। यह बंदर भारत से सीमा पार कर बहावलपुर के चोलिस्तान इलाके में घुस गया था। 

स्थानीय लोगों ने पहले उसे खुद पकडऩे की कोशिश की, लेकिन बंदर ने जब उन्हें चकमा दे दिया तब वन्यजीव अधिकारियों को इसकी खबर दी गई। काफी मशक्कत के बाद वन्यजीव अधिकारियों ने उसे पकड़ा। बंदर को बहावलपुर चिडिय़ाघर में बंद किया गया है। पाकिस्तानी अधिकारियों ने उसका नाम बॉबी रखा है।

पाकिस्तानी कबूतर को किया गिरफ्तार...
भारत और पाकिस्तान सीमा पर एक छोटे से शहर, मनवाल शहर में, एक जवान लडक़े ने अपने पंखों पर मुद्रित रहस्यमय संदेश के साथ एक सफेद और भूरे कबूतर देखा। युवक को कुछ संदेह हुआ तो उसने उस कबूतर को पकडकर उस कबूतर को निकटतम पुलिस स्टेशन ले गया। एक बार पुलिस हिरासत में, पक्षी की जांच की गई और पुलिस ने उसके पंखों के नीचे उर्दू (पाकिस्तान की आधिकारिक भाषा) में लिखित संदेश पाए।

पक्षी को एक्स-रे के अधीन भी किया गया था। हालांकि पुलिस ने पुष्टि की कि संदेश में कुछ भी असामान्य नहीं था, उन्होंने पक्षि को अपनी हिरासत में ‘संदिग्ध जासूस’ के रूप में रखा है।

तोते को किया गिरफ्तार...
लोरेंजो तोते को जन्म से चौकसी करने के लिए प्रशिक्षित किया गया था। जब ड्रग कार्टेल के सदस्यों को कानून प्रवर्तन द्वारा पकड़ा जाने का खतरा होता था तब उनके द्वारा प्रशिक्षित किया गया यह लोरेंजो तोता बहार निगरानी करता था, और अधिकारियों को देखते ही चिल्लाता था ‘भागो-भागो, बिल्ली आपको पकडऩे आरही है!’ दरअसल, वो ऐसा कहकर अपराधियों को पुलिस की आने की सूचना देता है। 

कई असफल छापे के बाद, पुलिस ने अंतत: इस योजना को पकड़ा और लोरेंजो को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने 200 हथियारों, एक चोरी हुई मोटरसाइकिल और ड्रग्स को छिपाने की जगह को भी खोजा। इस क्षेत्र में पुलिस ने 1000 से अधिक प्रशिक्षित लुक-आउट पक्षियों को पकड़ा है।

हाथी पर हत्या का आरोप...
केरल में एक हाथी पर तीन लोगों की हत्या का आरोप है। दरअसल, रामचंद्रन हाथी पागल हो गया और भारत के केरल में तीन लोगों की हत्या कर दी। यह घटना स्थानीय धार्मिक त्यौहार के दौरान हुई थी। हमले के तुरंत बाद, 45 वर्षीय हाथी के खिलाफ एक आपराधिक मामला लगाया गया था।

हाथी को गिरफ्तार कर लिया गया, हिरासत में लिया गया, और पर्यावरण विभाग की देखरेख में रखा गया। मालिक 30 लाख रुपए की सजा के रूप में भुगतान करने के लिए जिम्मेदार था, और रामचंद्रन को स्थानीय गतिविधियों में तीन महीने तक भाग लेने से रोक दिया गया था। अधिक परेशान करने वाली बात तो यह है, यह दूसरी बार हाथी हिंसक हो गया और मनुष्यों पर हमला किया। 

बकरे को फूल खाने पर हुई गिरफ्तारी...
बंगाल में इस बकरी को एक बार पहले चेतावनी दी गई थी, लेकिन कानून के इसका निन्दनीय अपमान यह है कि इस बकरी और उसके मालिक दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। अपराध जिला मजिस्ट्रेट के बगीचे से फूल खा रही थी। जनकपुर शहर में, मालिक और बकरी दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया और हिरासत में लिया गया। अंत में दोनों को अंतिम चेतावनी के साथ बॉन्ड पर रिहा कर दिया गया। 

गाय पर हत्या का झूठा आरोप...
एक अकेली गाय पर हत्या का झूठा आरोप लगाया गया था। दरअसल, दक्षिण पश्विम नाइजीरिया के ओगुन राज्य में, 24 वर्षीय अजीज सलाको की हत्या के लिए पुलिस ने एक गाय को गिरफ्तार कर लिया था। गाय निर्दोष थी, हालांकि, गलत समय पर गलत जगह पर पहुंच गई थी। 

सांगो ओटा में एक स्थानीय कार्निवल में एक लड़ाई शुरू हो गई, जहां सलाको एक और युवा व्यक्ति के साथ मुक्केबाजी शुरू हो गई जिसने उसे टूटी हुई बोतल से मार डाला। जब पुलिस घटना स्थल पर पहुंची, तो सब भाग गए थे, और गाय वहां एकमात्र जानवर थी, इसलिए इसे स्थानीय पुलिस स्टेशन ले जाया गया। रिपोर्ट के मुताबिक, अजीज सलाको के हत्यारे अभी भी खुल्ले घूम रहे हैं। बेचारी गाय अब भी सलाखों के पीछे है।

बकरी वंडल भी हुई गिरफ्तारी...
भारतीय पुलिस ने साल 2013 में कई बकरियों को जब्त कर लिया था, जिन्हें रैम में देखा गया था और कई कारों को नुकसान पहुंचा था। एक विशेष घटना में 12 बकरियां पुलिस वाहन पर चढ़ गयीं और हजारों डॉलर के नुकसान का कारण बन गई थी। 

अधिकारी तीन बकरियों को ट्रैक करने में सक्षम हो सके थे, जिसे उन्होंने पशु दान में सौंपने से पहले कई दिनों तक हवालात में बंद कर दिया था।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

5 + 9 =

पाठको की राय