Tuesday, June 25th, 2019

आफ्टर सेल्स सर्विसेज से नाखुश 'गूगल पिक्सल' यूजर ने दिल्ली में लगाए पोस्टर्स

नई दिल्ली 
किसी भी फोन को खरीदने के बाद कंपनी की आफ्टर सेल्स सर्विसेज भी यूजर एक्सपीरियंस का एक जरूरी पार्ट होती हैं। इससे कंपनी का ब्रांडनेम और विश्वसनीयता जुड़ी होती है। गूगल का फ्लैगशिप फोन पिक्सल खरीदने के बाद एक यूजर का यह एक्सपीरियंस बुरा रहा तो उसने दिल्ली में गूगल के खिलाफ पोस्टर लगवा दिए। अब गूगल की ओर से इसपर जवाब दिया गया है। आफ्टर सेल्स सर्विसेज में फोन की रिपेयरिंग और उससे जुड़ी समस्या को दूर करना शामिल होता है।  

हरियाणा के रहने वाले मनु अग्रवाल को 2017 में उनके जन्मदिन पर उनकी पत्नी ने गूगल का फ्लैगशिप पिक्सल फोन गिफ्ट किया था। इस फोन में आई खराबी के बाद सर्विस सेंटर पर रिपेयरिंग की गई, जहां से लौटने के बाद फोन में लिक्विड डैमेज भी देखने को मिला। फोन के वारंटी पीरियड में होने के बावजूद मनु को 26 हजार रुपये से ज्यादा का बिल भी भेजा गया। उन्हें मेल पर पुरानी तस्वीरें भी डैमेज प्रूव करने के लिए भेजी गईं, जो गूगल के पक्ष में नहीं गया। 

कंपनी की खराब आफ्टर सेल्स सर्विसेज के बाद मनु ने दिल्ली के इंडिया गेट और कनॉट प्लेस में प्रोटेस्ट किया और गूगल के खिलाफ दिल्ली में कई जगह पोस्टर लगवाए। सोशल मीडिया पर भी मनु ने यह पूरा मामला सामने रखा, जिसे बाकी यूजर्स का रिस्पॉन्स मिला। मनु का आरोप है कि गूगल कस्टमर सपॉर्ट की ओर से जानबूझकर उनका कॉल डिले किया गया और उन्हें ही ब्लेम किया गया। मनु को इससे संबंधित ट्वीट डिलीट करने के लिए मेसेज भी गूगल ने किए। 

ब्रांड पर इसका असर पड़ता देख अब गूगल की ओर से एक स्टेटमेंट जारी किया गया है। गूगल ने कहा है कि वह कस्टर के फोन से जुड़े किसी भी मामले को सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध है। स्टेटमेंट में गूगल ने कहा कि यूजर ने कंपनी के सामने नेक्स्ट-जेन पिक्सल की दो यूनिट्स की मांग रखी, जो उनकी पॉलिसीज के खिलाफ है। कंपनी का कहना है कि वह यूजर के फोन को फ्री ऑफ कॉस्ट रिपेयर करने या यूजर की मांग पर नया डिवाइस देने के लिए तैयार है। 

बता दें, इंडियन मार्केट में सैमसंग और हुवावे जैसी कंपनियों को टक्कर दे रहा गूगल जल्द ही पिक्सल के लाइट वर्जन भी लॉन्च करने वाला है। ऐसे में इमेज को लेकर वह रिस्क नहीं लेना चाहेगा। फिलहाल यूजर की कंप्लेंट की क्या स्थिति है, इसकी जानकारी नहीं दी गई है। गूगल का कहना है कि कई बार रिपेयरिंग या रिप्लेसमेंट ऑफर किए जाने के बावजूद यूजर दो पिक्सल यूनिट्स की मांग कर रहा था, जिस वजह से कंपनी उसकी मांग पूरी नहीं कर सकी। 

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

15 + 10 =

पाठको की राय