Friday, August 23rd, 2019

RSS नेता इंद्रेश बोले- राम मंदिर निर्माण में देरी के लिए कांग्रेस, वाम और 2-3 जज गुनहगार

पुणे
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में देरी के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के नेता इंद्रेश कुमार ने कांग्रेस, वाम और दो-तीन जजों को जिम्मेदार ठहराया है. मंगलवार को इंद्रेश कुमार ने आरोप लगाया कि कांग्रेस, वाम और दो-तीन जज उन गुनहगारों में हैं, जो न्याय में देरी कर अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में अड़चन डाल रहे हैं.

उन्होंने दोहराया कि आरएसएस की मांग है कि राम मंदिर के निर्माण के लिए सरकार अध्यादेश लाए. आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार ने कहा, 'हम मोदी सरकार से संसद में राम मंदिर निर्माण पर चर्चा कराने की अपील करते हैं. हमारा मानना है कि इस मसले पर जल्द से जल्द न्याय होना चाहिए. समूचे देश की भावना है कि जितनी जल्दी हो सके, उतनी जल्दी अयोध्या में भगवान राम के मंदिर का निर्माण होना चाहिए.'

महाराष्ट्र के पुणे में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए इंद्रेश कुमार ने कांग्रेस और वाम दलों के उस आरोप को झूठा बताकर खारिज कर दिया, जिसमें कहा जा रहा था कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) आगामी लोकसभा चुनावों में राजनीतिक लाभ लेने के लिए राम मंदिर के मुद्दे को उठा रही है. आरएसएस से संबद्ध राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के अध्यक्ष इंद्रेश कुमार कुछ कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए पुणे आए थे.

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार ने आरोप लगाया कि राम मंदिर मामले में न्याय में देरी के लिए कांग्रेस और वाम दल असली गुनहगार हैं. उन्होंने ने कहा, 'तीसरे गुनहगार सुप्रीम कोर्ट के दो-तीन न्यायमूर्ति हैं, जो इस मामले में देरी करते जा रहे हैं. उनके ऐसे कदमों से मामले में अड़चन आ रही है.' उन्होंने दावा किया कि 3 साल पहले शीर्ष अदालत ने साफ कहा था कि वह जमीन मालिकाना मामले में रोजाना सुनवाई करेगा और जल्द से जल्द फैसला सुनाएगा, लेकिन कांग्रेस और वाम दलों की अड़ंगेबाजी के चलते यह मामला लगातार लटकता चला जा रहा है.

उन्होंने कहा कि इस देश के 125 करोड़ लोगों की जिम्मेदारी है कि वो राम जन्मभूमि मसले का समाधान निकालें. यह सिर्फ एक पार्टी या धर्म की जिम्मेदारी नहीं है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस और वाम दल जिस तरह से राम मंदिर निर्माण में रुकावट डाल रहे हैं, उनको आगामी लोकसभा चुनाव में इस देश की जनता मुंहतोड़ जवाब देगी. उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद और देशभक्ति से समझौता नहीं किया जा सकता है, अगर ऐसा होता है, तो यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.

उन्होंने कहा कि काबा, वेटिकन सिटी, दीक्षाभूमि, सारनाथ, स्वर्ण मंदिर समेत दुनिया के अन्य तीर्थस्थलों को सम्मान मिलता है. उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर उस स्थान के साथ अन्याय और अपमान क्यों हो रहा है, जहां भगवान राम का जन्म हुआ था. आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार के ये बयान उस समय सामने आए हैं, जब राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले की सुनवाई के लिए एक बेंच का गठन किया है. अब इस मामले की अगली सुनवाई 29 जनवरी को होने वाली है.  इस दौरान आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार ने बिना नाम लिए एक फिल्म अभिनेता को भी निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि हाल ही में एक अभिनेता ने देश में असहिष्णुता होने की बात कही.

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

8 + 5 =

पाठको की राय