Monday, August 26th, 2019

कैफीन के खोजकर्ता के नाम आज का गूगल डूडल, कौन थे फ्रीडलीब फर्नेन रंज?

 
नई दिल्ली

गूगल विशेष मौकों या जन्मतिथियों पर स्पेशल डूडल बनाकर हस्तियों को याद करता है। आज गूगल ने अपना डूडल उस कैमिस्ट के नाम किया है, जिसने कैफीन की खोज की। जर्मनी के कैमिस्ट फ्रीडलीब फर्नेन रंज के 225वें जन्मदिन पर गूगल ने कॉफी के रंग का डूडल दिख रहा है, जिसमें फ्रेडलिब खुद कॉफी का कप पकड़े नजर आ रहे हैं। डूडल में वह कप से कॉफी पीते हैं और कैफीन का असर महसूस करते दिखते हैं। उनके बगल एक बिल्ली को भी बैठे दिखाया गया है।
जर्मनी में 8 फरवरी 1794 को जन्मे रंज को केमिस्ट्री से खासा लगाव था और इसी के चलते उन्होंने कॉफी में पाए जाने वाले साइकोऐक्टिव ड्रग कैफीन की पहचान की। कैफीन एक कड़वी, सफेद क्रिस्टलाभ एक्सेंथाइन एलकेलॉइड होती है, जो एक साइकोऐक्टिव (मस्तिष्क को प्रभावित करनेवाली) उत्तेजक ड्रग है। 1819 में रंज ने इसकी खोज की और इसे कैफीन नाम दिया। इसके लिए जर्मन शब्द Kaffee था, जो कैफीन बन गया।

कम उम्र से ही फ्रीडलीब ने बेलाडोना के पौधे पर प्रयोग करने शुरू कर दिए थे। यही आगे चलकर उनके लिए बड़ी उपलब्धि का कारण बना। रंज ने उस वक्त पता लगाया कि इस पौधे में पाया जाने वाला कोई केमिकल आंखों की पुतलियों के फैलने और सिकुड़ने पर असर डालता है। इस नई खोज ने जर्मन राइटर और विद्वान जॉन वुल्फगैंग वोन गोएथ का ध्यान खींचा और उन्होंने रंज को कॉफी बीन्स के केमिकल कंपोजीशन का विश्लेषण करने को कहा।
रंज ने सफलतापूर्वक अरेबिक मोका बीन्स से कैफीन केमिकल को अलग किया और उसका पता लगाया। इस कैफीन की रासायनिक संरचना पहली बार 1819 में सामने आई। केमिकल हिस्ट्री में बड़ा नाम होने के बावजूद अपने जीवन के अंतिम दिनों में फ्रीडलीब को 1852 में एक केमिकल कंपनी के मैनेजर द्वारा निकाल दिया गया और वह गरीबी में रहे। 73 साल की आयु में 25 मार्च 1867 को उनकी मृत्यु हो गई।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

5 + 13 =

पाठको की राय