Thursday, March 21st, 2019

 CPM-PM पर बरसे राहुल गांंधी, बोले- CPM हिंसक, मोदी सबको बुरा बोलते हैं

कोझिकोड 
पश्चिम बंगाल में लेफ्ट पार्टियों के साथ गठबंधन की अटकलों के बीच केरल पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रदेश की लेफ्ट सरकार और सीपीएम पर जोरदार हमला बोला। कांग्रेस अध्यक्ष ने बीजेपी-आरएसएस की हिंसा के साथ सीपीएम को भी हिंसक व्यवहार करनेवाली पार्टी करार दी। कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रदेश की सीपीएम सरकार पर केरल बाढ़ के दौरान पर्याप्त काम नहीं करने का भी आरोप लगाया।  


राहुल गांधी ने सीपीएम पर हिंसा करने का आरोप लगाते हुए कहा, 'मैं सीपीएम से पूछना चाहता हूं कि केरल जब बाढ़ की त्रासदी झेल रहा था, वो कहां थे? मैं सीपीएम से पूछना चाहता हूं कि जब 10 हजार बाढ़ प्रभावित परिवारों के लिए सीपीएम ने क्या किया? सीपीएम सिर्फ एक ही चीज करने में सक्षम है और वह है हिंसक व्यवहार। जब रोजगार सृजन की बात आती है तो सीपीएम के पास कोई जवाब नहीं होता है।' राहुल ने यह भी कहा कि सीपीएम को यह समझने में अभी वक्त लगेगा कि उनकी विचारधारा अब मरणासन्न हालत में आखिरी सांसे गिन रही है। 

सीपीएम के साथ ही राहुल ने आरएसएस और बीजेपी को भी खूब सुनाया। बीजेपी और आरएसएस पर भी सीपीएम की ही तरह हिंसा फैलाने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा, 'बीजेपी-आरएएस और सीपीएस केरल में हिंसा का प्रयोग करते हैं। हिंसा कमजोर लोगों का हथियार है। कांग्रेस हमेशा अहिंसा के हथियार से संघर्ष करती है।'

'पीएम मोदी सिर्फ अनिल अंबानी की इज्जत करते हैं' 
कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लेते हुए उन्हें हमेशा खराब भाषा का प्रयोग करनेवाला बताया। राहुल ने कहा, 'आपने नरेंद्र मोदी के भाषण सुने होंगे। वह भाषणों में सिर्फ एक काम करते हैं वह है दूसरों के बारे में बुरा बोलना। उन्होंने कभी किसी के बारे में कुछ अच्छा नहीं बोला। आप श्रीमान वाजपेयी के बारे में भी उनके भाषण सुन सकते हैं। आप देख सकते हैं कि वह मिस्टर आडवाणी के साथ कैसा व्यवहार करते हैं। वह सिर्फ अनिल अंबानी का सम्मान करते हैं।' 

कांग्रेस अध्यक्ष ने एक बार फिर दोहराया कि यह चुनाव दो विचारधाराओं के बीच की लड़ाई है। राहुल गांधी ने कहा कि इस चुनाव में दो विचारधाराओं का संघर्ष है और आज लोगों को उनके बुनियादी अधिकारों से भी वंचित किया जा रहा है।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

8 + 14 =

पाठको की राय