Thursday, March 21st, 2019

फुटओवर ब्रिज की सुरक्षा ऑडिट के बाद भी यातायात क्यों? मुंबई हादसे पर उठे ये 5 सवाल

 
मुंबई     

मुंबई में एक बड़ा हादसा हुआ है. मुंबई के व्यस्त छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन पर एक फुटब्रिज के गिरने से ये हादसा हुआ है. इस हादसे में अब तक 6 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 33 लोग घायल हो गए हैं. घायलों को सेंट जॉर्ज और जीटी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. ये हादसा शाम सात बजकर 20 मिनट पर हुआ, जब पुल पर आने जाने वालों की तादाद काफी थी और पुल के नीचे भी काफी लोग आ जा रहे थे. इस घटना के बाद सवाल उठ रहा है कि लापरवाही किसकी है. कांग्रेस ने रेल मंत्री पीयूष गोयल का इस्तीफा मांगा है और कहा है कि अगर वो इस्तीफा नहीं देते तो उनको हटाया जाना चाहिए. वैसे ये भी खबर है कि ये पुल रेलवे का नहीं बल्कि बीएमसी का है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर गहरा दुख जताया है. इस हादसे के बाद 5 अहम सवाल उठ रहे हैं.  

1. ब्रिज का स्लैब किसकी लापरवाही से गिरा?
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस हैरान हैं, जिस पुल को सरकारी अफसरों ने सेफ्टी ऑडिट में दुरुस्त पाया. आखिर वो भरभरा कर गिर कैसे गया? इतने जर्जर पुल को सरकारी जांच में दुरुस्त कैसे बता दिया गया?
2. महाराष्ट्र सरकार और BMC को क्यों कसूरवार न माना जाए?
मुख्यमंत्री फडणवीस ही नहीं मंत्री विनोद तावड़े भी कह रहे हैं कि पुल की हालत खराब नहीं थी, लेकिन, BMC के इस पुल की मजबूती की सच्चाई सामने आ गई. मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि ब्रिज मजबूत था. मंत्री कह रहे हैं कि कहीं कोई गड़बड़ी नहीं. ऐसे में सवाल उठता है कि फडणवीस सरकार और BMC को क्यों कसूरवार न माना जाए?
3. स्ट्रक्चल ऑडिट क्यों नहीं पकड़ में आई ब्रिज की कमजोरी?
अब पूरी मुंबई यही सवाल पूछ रही है कि जब सेफ्टी ऑडिट में पुल को फौलाद की तरह मजबूत बताया गया, .तो फिर बालू की भीत की तरह ढहा कैसे? ऐसा पहली बार नहीं हुआ है - जब कोई फुटओवर ब्रिज गिरा हो. पहले भी पुल गिरे हैं. उससे बाद सियासत हुई है. जर्जर पुलों को दुरुस्त करने का दावा किया गया, लेकिन, मुंबई में पुल हादसे बंद नहीं हुए.

4. ब्रिज को मजबूत न बनाए रखने के पीछे भ्रष्टाचार?
हाईकोर्ट ने बीएमसी को हुक्म दिया था कि मुंबई शहर के सारे जर्जर पुलों का सेफ्टी ऑडिट किया जाए. कोर्ट ने पूछा था कौन सा पुल कितना खतरनाक है इसका पूरा हिसाब दीजिए. हाईकोर्ट ने रेलवे पुल, फ्लाइओवर और अंडरपास सबका हिसाब मांगा था. बीएमसी ने कोर्ट को बताया कि हम 445 खतरनाक पुलों की जांच कर रहे हैं. आप हैरान रह जाएंगे कि शिवाजी टर्मिनल का पुल सेफ्टी ऑडिट का हिस्सा ही नहीं था.
5. मुंबई में बार-बार ब्रिज का गिरना देश के साथ धोखा?
मुंबई के लिए हादसे कोई नई बात नहीं हैं. फुटओवर ब्रिज हादसे की बात करें तो पिछले तीन साल से लगातार हादसे हो रहे हैं. 2017 में एलफिंस्टन ब्रिज गिरा, जबकि 2018 में अंधेरी पुल हादसा हुआ और गुरुवार को सीएसटी ब्रिज हादसे में 6 लोगों की जान चली गई. वही रात भर ब्रिज के बचे हुए हिस्से को तोड़ा गया.

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

1 + 10 =

पाठको की राय