Monday, July 22nd, 2019

लय बनाये रखने के लिये उतरेंगे विराट के चैलेंजर्स

मुंबई
इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें संस्करण में पहली जीत का स्वाद चखने के बाद विराट कोहली की कप्तानी वाली रायल चैलेंजर्स बेंगलुरू ऊंचे मनोबल के साथ अगले मैच में उतरेगी जहां सोमवार को वानखेड़े स्टेडियम में मुंबई इंडियन्स के खिलाफ उसकी कोशिश हर हाल में अपनी जीत की लय बरकरार रखना होगा। बेंगलुरू ने किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ मोहाली में शनिवार को पिछले मैच में आठ विकेट से जीत दर्ज की थी जो उसकी मौजूदा संस्करण में ही पहली जीत है। अपने सात मैचों में छह हारने के बाद विराट की टीम आखिरी पायदान पर है और उसके पास केवल दो ही अंक हैं। टीम के लिये अपने बाकी बचे मैचों में जीत अनिवार्य हो गयी है जबकि रोहित शर्मा की कप्तानी में मुंबई की टीम सात मैचों में चार जीत और तीन हार के बाद तीसरे नंबर पर है। 

मुंबई की कोशिश रहेगी कि वह अपने मैदान पर जीत हासिल कर स्थिति को मजबूत करे जबकि बेंगलुरू के पास फिलहाल खोने के लिये बहुत कुछ नहीं है जो मुंबई के समीकरण जरूर खराब कर सकती है। पंजाब के खिलाफ जीत दर्ज करने के बाद विराट ने कहा था कि टीम की उम्मीदें अब भी बरकरार है और उन्हें टूर्नामेंट की रेस से अभी बाहर नहीं समझा जाना चाहिये। इस मैच में एक बार फिर बेंगलुरू की स्टार जोड़ी विराट और ए बी डीविलियर्स ने जीत का रास्ता साफ किया और निश्चित ही मुुंबई के गेंदबाज़ों के लिये ये दोनों खिलाड़ी निशाने पर रहेंगे। विराट ने मैच में 67 रनों की पारी खेली थी जबकि डीविलियर्स ने 38 गेंदों में पांच चौके और दो छक्के लगाकर नाबाद 59 रन बनाये। मार्कस स्टोइनिस ने भी टीम को जीत तक पहुंचाया जबकि पार्थिव पटेल और मोइन अली भी टीम के बढ़िया बल्लेबाज हैं।

लगातार हार रही बेंगलुरू ने पंजाब के खिलाफ जिस तरह से ऊंचे लक्ष्य का पीछा किया उससे साफ है कि टीम का बल्लेबाजी विभाग कितना मजबूत है। गेंदबाज़ों में भी टीम के पास बढ़िया खिलाड़ी मौजूद हैं। गैर अनुभवी नवदीप सैनी ने भी अपने प्रदर्शन से काफी प्रभावित किया है। पिछले मैच में वह चार ओवर में 23 रन देकर किफायती साबित हुये थे। दूसरी ओर मुंबई इंडियन्स की बात करें तो अंबानियों की यह टीम स्टार चेहरों से भरी हुयी है और तीन बार की चैंपियन होने के नाते उसके पास पिछड़ने के बावजूद आगे निकलने का अच्छा अनुभव है। टीम को हालांकि राजस्थान रायल्स के खिलाफ पिछले मैच में अपने ही मैदान पर चार विकेट से हार झेलनी पड़ी थी लेकिन उसने हमेशा वापसी का जज्बा दिखाया है और उससे इस बार भी इसी की अपेक्षा रहेगी। बल्लेबाजी विभाग में क्विंटन डी काक और रोहित दोनों ही अच्छी फार्म में है और पिछले मैच में भी इन्होंने अपनी पारियों से प्रभावित किया था। काक ने राजस्थान के खिलाफ मैच में 81 रन की बढ़िया पारी खेली थी। वहीं कीरोन पोलार्ड और हार्दिक पांड्या निचले क्रम के अच्छे स्कोरर हैं। लेकिन गेंदबाजी विभाग में टीम को सुधार करना होगा। क्रुणाल पांड्या और जसप्रीत बुमराह दोनों टीम के लिये संतोषजनक और निरंतर अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं लेकिन बल्लेबाजों के लिये मददगार इस पिच पर गेंदबाजों को किफायती खेल दिखाना होगा। पिछले मैच में अल्जारी जोसफ तीन ओवर में 53 रन लुटाकर सबसे महंगे साबित हुये थे। ऐसे में विराट और एबी जैसे बल्लेबाज़ों के सामने गेंदबाजों को सतर्कता बरतनी होगी।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

3 + 14 =

पाठको की राय