Monday, October 18th, 2021
Close X

देश में पॉवर प्लांट के लिए कोयले की कोई समस्या नहीं - जोशी

बिलासपुर
देश में  बिजली संयंत्रों को कोयला आपूर्ति करने में किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं हैं। ऊर्जा मंत्रालय से हमें जो मांग सौंपी गई थी उसे हम पूरा कर रहे हैं इसमें किसी भी प्रकार की कोई राजनीति हैं और न ही मुझे कोई राजनीति करनी हैं। ये बातें केंद्रीय कोयला मंत्री प्रहलाद जोशी ने बुधवार की सुबह बिलासपुर पहुंचने के बाद विमानतल पर मीडिया के साथ संक्षिप्त चर्चा करते हुए कहीं।

उन्होंने कहा कि वे यहां पर खदानों और उत्पादन की समीक्षा करने आए हैं और इसके बारे में एसईसीएल द्वारा जो जानकारी दी गई है उस पर वह पूरी तरह से कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि कोयला उत्पादन पर किसी भी प्रकार का कोई संकट नहीं हैं। ऊर्जा मंत्रालय ने उन्हें 1.9 मिलियन टन कोयले की मांग का प्रस्ताव भेजा था और हमें 2 मिलियन टन कोयले की आपूर्ति आज की तारीख में कर दी हैं। मीडिया कर्मियों द्वारा कोयले के संकट पर राजनीति किए के सवाल पर जोशी ने कहा कि राजनीति करने नहीं आया हूं यहां पर मैं एसईसीएल द्वारा संचालित खदानों, उत्पादन और कार्य क्षमता को देखने आया हूं, इसके बाद इसकी समीक्षा करूंगा। देश में कोयले की कोई संकट नहीं है, पॉवर प्लांट को कोयले की आपूर्ति उनकी मांग के अनुसार जारी रहेगी। इस समय देश में कोयले की मांग बढ़ गई है और बारिश के कारण खदानों से कोयला निकालने में परेशानी हो रही थी इसलिए ऐसी स्थिति थी, लेकिन अब हालात पूरी तरह से नियंत्रण में हैं।  छत्तीसगढ़ की 41 खदानों से कोल इंडिया की कंपनी एसईसीएल कोयला निकालती है। यह देश से निकलने वाले कोयले का 20 फीसदी है। 150 लाख मीट्रिक टन कोयले का सालाना उत्पादन होता है। कोरबा जिले की ही खदानों से एसईसीएल 130 लाख मीट्रिक टन कोयला निकालती है।

बिलासपुर विमानतल पर केंद्रीय कोयला मंत्री के साथ ही कोल इंडिया के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल भी दिल्ली से उनके साथ पहुंचे। विमानतल पर केंद्रीय मंत्री और कोल इंडिया के चेयरमेन का एसईसीएल के सीएमडी और अन्य अधिकारीगणनों से गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। इसके अलावा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और सांसद अरुण साव ने केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी का स्वागत किया। स्वागत सत्कार के बाद केंद्रीय मंत्री और कोल इंडिया के चेयरमेन तत्काल एसईसीएल मुख्यालय पहुंचे जहां अधिकारियों के साथ उन्होंने समीक्षा बैठक में शामिल हुए। समीक्षा बैठक में शामिल होने के बाद केंद्रीय कोयल मंत्री रांची के लिए हुए।

Source : Agency

आपकी राय

1 + 10 =

पाठको की राय